Tuesday 21 October 2008

सागर के पत्र कविता के नाम


मेरी
ज़िन्दगी चाहे हम भौतिक रूप से एक-दूसरे से दूर चले जाएं, मगर एक अहसास के रूप में तुम हमेशा मेरे पास, मेरे साथ रहोगी। मेरी हर नई कविता में तुम्हारा चेहरा होगा, मेरी हर कहानी में तुम्हारी याद होगी, मेरे हर शब्द में तुम्हारा ख्याल छुपा होगा। तुम्हारी याद हर रात सपना बनकर मेरे साथ रहेगी और हर सुबह जीने का एक नया उत्साह बनकर मेरे मन में इंतज़ार का चिराग जलाती रहेगी। तुम्हारे इंतज़ार का चिराग मैं कभी बुझने नहीं दूँगा। वह रोशन रहेगा, हर पल, हर वर्ष और हर जन्म में।
तुमसे मैं और कुछ न चाहूँगा, पर इतना अवश्य कि कभी मेरी याद को अपने दिल से मिटने न देना। विरह के पलों में यही अहसास तो मुझे जीवन देगा कि चाहे हम दूर सही, मगर तुम मुझे चाहती हो, मुझे प्यार करती हो।
कभी मेरी याद में तुम्हारी आँखों में यदि आँसू की कोई बूंद छलछलाई तो तुम महसूस करोगी कि तुम्हारी पलक पर अपने अधर धरे मैं आँसू की उस बूंद को चूम रहा हूँ। और यह अहसास तुम्हें याद दिलाएगा कि हमारा मन से मन का बंधन अमर है।.........सागर

मेरी कविता,

तुम तक मेरे प्यार की रोशनी से भरी याद पहुँचे। रात सपने में रोशनी का शहजादा चांद अपने अंगरक्षक तारों के संग आया और बोला, गुस्ताख़ दिवाने, तुमने हमारी तुलना अपने महबूब से करने की गुस्ताख़ी की है इसलिए तुम्हें इस जुर्म की सजा मिलेगी। मैंने पूछा, क्या सजा मिलेगी? तो वह बोला, हम तुम्हारी ज़िन्दगी में अब कभी भी रोशनी नहीं करेंगे। मैंने कहा, ऐ रोशनी के शहजादे, यूँ अपने आप पर गुमान न करो। जाओ मुझे भी तुम्हारी जरूरत नहीं है। मेरे महबूब की यादों की रोशनी जब तक मेरी ज़िन्दगी में है, मुझे किसी और रोशनी की जरूरत ही नहीं है।
मेरी ज़िन्दगी की रोशनी, कब तक तुम साथ रहोगी? चांद की तरह चाहे दूर से ही मेरी ज़िन्दगी को रोशनी का सहारा देती रहना, मगर नज़रों के सामने रहना। चांद के समान कभी परिस्थितियों के बादलों में छुप न जाना।
आजकल एक तारे की तरह मैं अपने चांद को दूसर से देखता हूँ और मुस्कराता हूँ। आँसू बहाने या दुःख मनाने का हक तो तुमने मुझसे ले ही लिया है प्यार में। अब मैं तुम्हारी याद में अपने-आप को डूबो देना चाहता हूं।
आज एक बात मन में आई कवि कि भक्ति और प्यार में कोई खास अंतर नहीं है। अपने आराध्य की धुन में अपने अस्तित्व को भुला देना, यही तो मंज़िल है प्यार की और भक्ति की भी। इसीलिए तो मैं तुम्हें अपना ख़ुदा मानता हूँ। जिसकी इबादत में मैं हमेशा डुबा रहता हूँ।
और ख़ुदा को पाना कभी आसान हुआ है? बावजूद इसके कि हर आदमी में छुपा रहता है वह। तुम्हें पाना भी मुश्किल है मेरे ख़ुदा, मेरी मुहब्बत के ख़ुदा। बावजूद इसके कि तुम मेरे दिल में हो, दिल की धड़कनों में हो, हर साँस में हो।.......सागर


15 comments:

संगीता पुरी said...

नए चिट्ठे के साथ आपका स्वागत है.... हिन्दी चिट्ठाजगत में ....आशा है आप अपनी प्रतिभा से हिन्दी चिट्ठा जगत को मजबूती देंगे.....हमारी शुभकामना आपके साथ है।

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

सुस्वागतम बधाइयां
खुल कर लिखें अच्छा लिखे
चिन्तन करें सिर्फ़ चिंता नहीं
सादर
भवदीय
गिरीश बिल्लोरे मुकुल

शोभा said...

वाह बहुत सुन्दर लिखा है। आपका स्वागत है।

रश्मि प्रभा said...

खुशबू में बसे ख़त बहुत अच्छे हैं,
स्वागत है इन खतों की बानगी के संग

shama said...

Sabse achha to mujhe blog kaa naam lagaa !Isliye naye chitthoki fehristse ise pehle chuna....khat ye shabd ek romanch jagata hai jo aake zamaneme nahee raha....Reh gaye SMS ya e-mails...short cutme likhe hue...
Ab wo khat sirf geetonme bas gaye.."Phool tumhen bheja ahi khatme...!" ya phir "Chanda re meree patiyan leja.." aur kitnehee...
Shubhechhaon sahit swagat hai.
Ek binateebhee...Ye word verification pls hata den!!

समीर यादव said...

नए चिट्ठे के साथ ...
नई अलख जगाने के लिए

स्वागत है आपका..!
अच्छी शुरुवात.

समीर यादव said...

यदि अन्यथा न लें तो... सेटिंग में कमेंट्स में जाकर वर्ड वेरिफिकेशन में no कर दे ताकि टिप्पणी देने में पाठकों को असुविधा न हो..

नारदमुनि said...

khat likh de sanvariya ke nam babu, ab to khat likhane wali bat koi soch bhee nahi sakta

Amit K. Sagar said...

माशाअल्लाह! सलामात रहो तुम सदा...सलामत रहे प्यार सदा...खुशबू बनके फिजाओं में रहो...रहे प्यार ही प्यार से भरी हर घटा...
---
शुभकामनाएं.
परिचय न पा सका...पर ये कम नहीं कि तुम प्रेम पुजारी हो...दिल से आभार...शुभकामनाएं.
--
अमित के. सागर

Udan Tashtari said...

हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है. नियमित लेखन के लिए मेरी हार्दिक शुभकामनाऐं.

आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

वर्ड वेरिपिकेशन हटा लें तो टिप्पणी करने में सुविधा होगी. बस एक निवेदन है.

डेश बोर्ड से सेटिंग में जायें फिर सेटिंग से कमेंट में और सबसे नीचे- शो वर्ड वेरीफिकेशन में ’नहीं’ चुन लें, बस!!!

Anonymous said...

[B]NZBsRus.com[/B]
Forget Sluggish Downloads Using NZB Downloads You Can Easily Find High Quality Movies, Console Games, Music, Software & Download Them at Maxed Out Speeds

[URL=http://www.nzbsrus.com][B]NZB[/B][/URL]

Anonymous said...

Delivery Our Risqu‚ Prices at www.Pharmashack.com, The High-level [b][url=http://www.pharmashack.com]Online Chemist's boutique [/url][/b] To [url=http://www.pharmashack.com]Buy Viagra[/url] Online ! You Can also Foretell Mammoth Deals When You [url=http://www.pharmashack.com/en/item/cialis.html]Buy Cialis[/url] and When You You [url=http://www.pharmashack.com/en/item/levitra.html]Buy Levitra[/url] Online. We Also Skill a Stupendous Generic [url=http://www.pharmashack.com/en/item/phentermine.html]Phentermine[/url] In holdings of Your Regimen ! We Huckster Daub refer to [url=http://www.pharmashack.com/en/item/viagra.html]Viagra[/url] and Also [url=http://www.pharmashack.com/en/item/generic_viagra.html]Generic Viagra[/url] !

Satish Chandra Satyarthi said...

बहुत खूबसूरत लिखा है भाई..

Anonymous said...

top [url=http://www.c-online-casino.co.uk/]uk casino[/url] coincide the latest [url=http://www.realcazinoz.com/]free casino games[/url] free no consign hand-out at the leading [url=http://www.baywatchcasino.com/]casino
[/url].

Anonymous said...

[url=http://www.onlinecasinos.gd]casinos online[/url], also known as celebrated casinos or Internet casinos, are online versions of commonplace ("buddy and mortar") casinos. Online casinos ok gamblers to encompass up and wager on casino games all in the Internet.
Online casinos customarily originate aside on the securities dealing odds and payback percentages that are comparable to land-based casinos. Some online casinos station forth higher payback percentages with a way of thinking unawareness automobile games, and some kind community payout diversion audits on their websites. Assuming that the online casino is using an correctly programmed unsystematic convoy generator, substance games like blackjack suffer with an established congress edge. The payout participation in preference to of these games are established erstwhile the rules of the game.
Uncounted online casinos tug together or materialize their software from companies like Microgaming, Realtime Gaming, Playtech, Wide-ranging Artifice Technology and CryptoLogic Inc.